Hindi Shayari

हिंदी में अश्क़ शायरी

Written by WikiHi

हिंदी में अश्क़ शायरी | Ashq Shayari in Hindi

Hello Friends, आज के इस पोस्ट Ashq Shayari and quotes in Hindi में आप सभी को दी जा रही है कुछ बेहतरीन हिंदी में Ashq शायरी अर्थात Ashq Shayari in Hindi ताकि आप इसे पढ़ सकें और भेज सकें उन लोगों को जिनको इनकी जरुरत हो. तो आइये पढ़ते हैं हिंदी में तन्हाई शायरी.

Ashq Shayari in Hindi

आँखों में आँसू लेके होठों से मुस्कुराये,
हम जैसे जी रहे हैं कोई जी के तो बताये।

 

दर्द दे कर इश्क़ ने हमे रुला दिया,
जिस पर मरते थे उसने ही हमे भुला दिया,
हम तो उनकी यादों में ही जी लेते थे,
मगर उन्होने तो यादों में ही ज़हेर मिला दिया..

 

शायद तू कभी प्यासा फिर मेरी तरफ लौट आये,
आँखों में लिए फिरता हूँ दरिया तेरी खातिर।

 

गिरते हुऐ अश्क की कीमत न पूछना,
हर बूंद में लाखो सवाल हैं…

 

ज़िन्दगी तूने मुझे तोहफ़े बड़े अनमोल दिये हैं
अश्क़ जितने भी थे सब नाम मेरे तौल दिये हैं

हिंदी में अश्क़ शायरी | Ashq Shayari in Hindi

समंदर में उतरता हूँ तो आँखे भीग जाती है तेरी आँखों को पढता हूँ तो आँखे भीग जाती है तुम्हारा नाम लिखने की इजाजत छीन गयी है जब से कोई भी लफ्ज लिखता हूँ तो आँखे भीग जाती है

 

आँख ने अश्क बहाए भी तो सूख जाएंगे
दिल की बस्ती में  ग़म  की धूप है बहुत

 

इश्क़ लिखने को इश्क़ होना बहुत जरूरी है
जहर का स्वाद बिना पिए कोई कैसे बताएगा :))

 

हमारे शहर आ जाओ सदा बरसात रहती है,
कभी बादल बरसते हैं कभी आँखें बरसतीं हैं।

 

टपक पड़ते हैं आँसू जब तुम्हारी याद आती है,
ये वो बरसात है जिसका कोई मौसम नहीं होता।

 

बेवफ़ाई का मुझे जब भी ख़याल आता है
अश्क़ रुख़सार पर आँखों से निकल जाते हैं

 

हर लम्हा हम उन्हें याद करते रहे उनकी याद में मर -मर के जीते रहे अश्क आँखों से हमारी बहते रहे हम अश्कों के जाम पीते रहे

 

हमने  तो  बहा  दिए हैं  “आकाश”  तमाम  अश्क  अपने
अब उसने हिसाब-ए-बेकरारी-ए-हिज्र माँगा तो देंगे कैसे

 

हम एस कदर तुम पर मर मिटेंगे
तुम जहाँ देखोगे तुम्हे हम ही दिखेंगे

 

मुझको लूट कर जाने वाले चले गए,
मेरी आँखों से नींद चुरा कर ले गये,
मोहब्बत की दिल से… तो आँसू गिरे,
लोग उन्हें मोती समझकर उठा ले गये।

हिंदी में अश्क़ शायरी | Ashq Shayari in Hindi

कभी बरसात का मज़ा चाहो,
तो इन आँखों में आ बैठो,
वो बरसों में कभी बरसती है,
ये बरसों से बरसती हैं।

 

अश्क़ अच्छे ही तो हैं
मसला ग़म बहाने का अगर है,

 

ये रोशनी ये हवा क्या करूँ
मैं ज़माने की दुआ क्या करूँ
मेरी आँखों के अश्क़ रेत हुए
यार दरिया ना हुआ क्या करूँ

 

.वो बेगानो में अपने हम अपनों में अनजाने लगते है हमारे खून की भी कीमत नहीं उनके अश्कों के भी दाम लगते है

 

इश्क में  राएगाँ कुछ नही जाता
ये अश्क भी किसी काम आएंगे

 

शायरी उसी के लबों पर सजती है साहिब
जिसकी आँखों में इश्क़ रोता हो

 

आफताब की गर्मी से दरिया का पानी ख़त्म नहीं होता,
लैला के इंकार से मजनू का जज़्बा कम नहीं होता,
फ़िराक की मुसीबत हो या यार के वस्ल की लज़्ज़त,
किसी भी हाल में अश्कों का बहना काम नहीं होता।

 

आ देख मेरी आँखों के ये भीगे हुए मौसम,
ये किसने कह दिया कि तुम्हें भूल गये हम।

 

दो चार आँसू ही आते हैं पलकों के किनारे पे,
वर्ना आँखों का समंदर गहरा बहुत है।

 

गिरा पलकों से अश्क़ तो सोचा ना था,
रुख़सार पर हाथ तेरे संभाल लेंगे उन्हें !!

हिंदी में अश्क़ शायरी | Ashq Shayari in Hindi

मेरी यादों की कश्ती उस समंदर में तैरती है जिस में पानी मेरी अपनी ही पलकों का होता है

 

अश्क ज़माने से अभी-अभी छुपा ना पाओगे तुम
बहुत वक़्त लगेगा  दिल को  ग़म से  निस्बत को

 

बड़ी अजीब सी मोहब्बत थी तुम्हारी…

पहले पागल किया…

फिर पागल कहा…

फिर पागल समझ कर छोड़ दिया.

 

मेरे ख़त में जो भीगी भीगी सी लिखावट है,
स्याही में थोड़ी सी मेरे अश्कों की मिलावट है।

 

वो अश्क बन के मेरी चश्म-ए-तर में रहता है,
अजीब शख़्स है पानी के घर में रहता है।

 

आया ही था खयाल कि आंखें छलक पड़ीं,
आंसू किसी की याद के कितने करीब हैं।

 

ग़मो से उलझकर मुस्कुराना मेरी आदत है
मुझे नाकामियों पे अश्क़ बहाना नहीं आता

 

सोचकर बाज़ार गये था..कुछ अश्क़ बेचने..
हर खरीददार बोला..तोहफे बिका नहीं करते…!

 

आँखों से  बगावत पे  उतर आता है
इक अश्क अक्सर बागी हो जाता है  ‘

 

जहाँ – जहाँ क़तरा-ए-अश्क गिरेगा
वहां – वहां इक आँख  उग आएगी’

 

 

 

About the author

WikiHi

Leave a Comment