Hindi Shayari

Desh Bhakti Shayari देश भक्ति शायरी 2018

Written by WikiHi

Desh Bhakti Shayari  2018

Hello Friends, जैसा कि आप सभी जानते हैं कि स्वतंत्रता दिवस काफी नजदीक है. ऐसे में सभी लोग इन्टरनेट पर देश भक्ति शायरी की खोज करते हैं. स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर सभी जगह कार्यक्रम होते हैं जिनमे देश भक्ति शायरी को अपने  अपने तरीके से बोला जाता है. ऐसे में मैं इस  पोस्ट में आप सभी को दे रहा हूँ कुछ बेहतरीन देश  भक्ति शायरी जिनका उपयोग आप कर सकते हैं.

वैसे इसका पार्ट 1 मैं पहले लिख चूका हूँ जिसे आप निचे के लिंक से पढ़ सकते हैं…

तो आइये पढ़ते हैं इन देश भक्ति शायरी को जिसे आप अपने प्रियजनों के साथ शेयर भी कर सकते हैं.

Share the best desh bhakti shayari collection in hindi. Enjoy our Desh Bhakti Shayari on the web, Facebook and blogs.

Watan Par Shayari वतन पर शायरी


न पूछो ज़माने को,
क्या हमारी कहानी है,
हमारी पहचान तो सिर्फ ये है,
की हम सिर्फ हिन्दुस्तानी हैं ……!!!

शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो,
होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो.


देशभक्ति शायरी हिंदी में (Desh Bhakti Shayari Hindi Me)

आजादी की कभी शाम नहीं होने देंगे

शहीदों की कुर्बानी बदनाम नहीं होने देंगे

बची हो जो एक बूंद भी लहू की

तब तक भारत माता का आँचल नीलाम नहीं होने देंगे


Desh Bhakti Quotes In Hindi

Uss Mulk Ko Koi Chu Bhi Nahi Sakta
Jis Desh Ki Sarhad Hai Yeh Nigahe
Watan Hamara Misaal Mohabat Ki,
Todta Hai Deewaar Nafrat Ki,


इतनी सी बात हवाओं को बताये रखना
रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना
लहू देकर की है जिसकी हिफाजत हमने
ऐसे तिरंगे को हमेशा दिल में बसाये रखना
हैप्पी रिपब्लिक डे….!!

Desh Bhakti Quotes In Hindi


Kuchh Nasha Tirange Ki Aaan Ka Hain,
Kuch Nasha Matrbhumi Ki Shaan Ka Hai
Hum Lahrayenge Har Jagah Ye Tiranga
Nasha Ye Hindustan Ki Shaan Ka Hain


Watan Par Shayari वतन पर शायरी


अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नहीं….!!


मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ….!!


Deshbhakti Shayari | देश भक्ति शायरी


स्वतंत्रता रण के रणनायक अमर रहेगा तेरा नाम,
नहीं जरूरत स्मारक की स्मारक खुद तेरा नाम।
स्वतंत्र भारत नाम के आगे जुड़ा रहेगा तेरा नाम,
भारत का जन-मन-गण ही अब बना रहेगा तेरा धाम।।

दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त,
मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी.


देशभक्ति शेरो शायरी


मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए

बस अमन से भरा यह वतन चाहिए

जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए

और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये


Desh Bhakti Quotes In Hindi


Halki Si Dhup Barsat K Baad,
Thori Si Khushi Hr Baat K Baad,
Isi Tarh Mubark Ho Ap Ko,
Azadi Ki Harr Raat Aj K Baad!….


अनेकता में एकता ही इस देश की शान है,
इसीलिए मेरा भारत महान है…!!


मुझे ना तन चाहिए, ना धन चाहिए
बस अमन से भरा यह वतन चाहिए
जब तक जिन्दा रहूं, इस मातृ-भूमि के लिए
और जब मरुँ तो तिरंगा कफ़न चाहिये
* जय-हिन्द *


मेरा “हिंदुस्तान” महान था,
महान है और महान रहेगा,
होगा हौसला बुलंद सब के ड़ों में बुलंद
तो एक दिन पाक भी जय हिन्द कहेगा.


जो अब तक ना खौला वो खून नही पानी हैं,
जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी हैं.


Watan Par Shayari वतन पर शायरी


ऐ मेरे वतन के लोगों तुम खूब लगा लो नारा

ये शुभ दिन है हम सब का लहरा लो तिरंगा प्यारा

पर मत भूलो सीमा पर वीरों ने है प्राण गँवाए

कुछ याद उन्हें भी कर लो जो लौट के घर न आये


Chalo Phir Se Aaj Woh Nazara Yaad Kar Le,
Shahido Ke Dil Me Thi Vo Jwala Yaad Karle,
Jisme Behkar Azadi Pahuchi Thi Kinare Pe
Deshbhakto Ke Khoon Ki Vo Dhara Yad Krle



दे सलामी इस तिरंगे को
जिस से तेरी शान हैं,
सर हमेशा ऊँचा रखना इसका
जब तक दिल में जान हैं


Deshbhakti Shayari | देश भक्ति शायरी


देशभक्तों से ही देश की शान है
देशभक्तों से ही देश का मान है
हम उस देश के फूल हैं यारों
जिस देश का नाम हिंदुस्तान है….!!


सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं,
देखना हैं जोर कितन बाजू-ए-कातिल में हैं,
वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां,
हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं.


देशभक्ति शायरी हिंदी में (Desh Bhakti Shayari Hindi Me)


जो भरा नहीं है भावों से,
जिसमें बहती रसधार नहीं,
वह हृदय नहीं है पत्थर है,
जिसमें स्वदेश का प्यार नहीं।


लड़ें वो बीर जवानों की तरह,
ठंडा खून फ़ौलाद हुआ,
मरते-मरते भी की मार गिराए,
तभी तो देश आज़ाद हुआ.


है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर,
इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं,
है नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय,
जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं.


Watan Par Shayari वतन पर शायरी


खून से खेलेंगे होली,

अगर वतन मुश्किल में है

सरफ़रोशी की तमन्ना

अब हमारे दिल में है,


Kuchh Nasha Tirange Ki Aaan Ka Hain,
Kuch Nasha Matrbhumi Ki Shaan Ka Hai
Hum Lahrayenge Har Jagah Ye Tiranga
Nasha Ye Hindustan Ki Shaan Ka Hain


जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है,
जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है…!!


सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा
हम बुलबुलें हैं उसकी वो गुलसिताँ हमारा।
परबत वो सबसे ऊँचा
हमसाया आसमाँ का
वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा…!!


Deshbhakti Shayari | देश भक्ति शायरी


Ye Bat Hawao Ko Bataye Rakhna
Roshni Hogi Chirago Ko Jalaye Rakna
Lahu Dekr Jiski Hifazat Hamne
Aise Tirange Ko Sada Dil Me Basaye Rakhna.


समर में घाव खाता है उसी का मान होता है,
छिपा उस वेदना में अमर बलिदान होता है,
सृजन में चोट खाता है छेनी और हथौड़ी का,
वही पाषाण मंदिर में कहीं भगवान होता है।


कुछ पन्ने इतिहास के
मेरे मुल्क के सीने में शमशीर हो गएँ,
जो लड़े, जो मरे वो शहीद हो गएँ,
जो डरे, जो झुके वो वजीर हो गएँ.


Watan Par Shayari वतन पर शायरी


चिंगारी आजादी की सुलगी मेरे जश्न में हैं,
इन्कलाब की ज्वालाएं लिपटी मेरे बदन में हैं,
मौत जहाँ जन्नत हो ये बात मेरे वतन में हैं,
कुर्बानी का जज्बा जिन्दा मेरे कफन में हैं.


स्वतंत्रता दिवस पर शायरी


कुछ नशा तिरंगे की आन का है,

कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,

हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,

नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है


Desh Bhakti Shayari Image


ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता


इस वतन के रखवाले हैं हम
शेर ए जिगर वाले हैं हम
मौत से हम नहीं डरते
मौत को बाँहों में पाले हैं हम
वन्दे मातरम….!!


ज़माने भर में मिलते हे आशिक कई ,
मगर वतन से खूबसूरत कोई सनम नहीं होता ,
नोटों में भी लिपट कर, सोने में सिमटकर मरे हे कई ,
मगर तिरंगे से खूबसूरत कोई कफ़न नहीं होता


टूटी हुई बोतल है, टूटा हुआ पैमाना।
सरकार तुझे दिखा देंगे, ठाठ फकीराना।।


देशभक्ति शायरी हिंदी में (Desh Bhakti Shayari Hindi Me)


कर जस्बे को बुलंद जवान

तेरे पीछे खड़ी आवाम

हर पत्ते को मार गिरायेंगे

जो हमसे देश बटवायेंगे


मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ,

यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,

मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,

तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ


खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,

मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,

करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,

तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है


Deshbhakti Shayari | देश भक्ति शायरी


किसी को लगता है हिन्दू खतरे में है
किसी को लगता है मुस्लमान खतरे में है
धर्म का चश्मा उतार के देखो यारो
पता चलेगा हमारा हुन्दुस्तान खतरे में है
देश भक्ति शायरी


Chalo Phir Se Aaj Woh Nazara Yaad Kar Le,
Shahido Ke Dil Me Thi Vo Jwala Yaad Karle,
Jisme Behkar Azadi Pahuchi Thi Kinare Pe
Deshbhakto Ke Khoon Ki Vo Dhara Yad Krle


कर जज्बे को बुलंद जवान, तेरे पीछे खड़ी आवाम !
हर दुश्मन को मार गिराएंगे, जो हमसे देश बँटवाएंगे….!!


गुलाम बने इस देश को आजाद तुमने कराया है
सुरक्षित जीवन देकर तुमने कर्ज अपना चुकाया है
दिल से तुमको नमन हैं करते
ये आजाद वतन जो दिलाया है….!!


तेरे दामन से जो आये, उन हवाओं को सलाम
चूम लूँ मैं उस जुबां को जिस पे आये तेरा नाम
सबसे सुन्दर सुबह तेरी
सबसे सुन्दर तेरी शाम
तुझ पे दिल कुरबान
ऐ मेरे प्यारे वतन,
ऐ मेरे पिछड़े चमन
तुझ पे दिल कुर्बान।।


Watan Par Shayari वतन पर शायरी


अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नही !
सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नही!!


ये पेड़ ये पत्ते ये शाखें, भी परेशान हो जाएँ,
अगर परिंदे भी हिन्दू और मुसलमान हो जाएँ.


खूब बहती हैं अमन की गंगा बहने दो,
मत फैलाओ देश में दंगा रहने दो,
लाल हरे रंग में ना बाटो हमको,
मेरे छत पर एक तिरंगा रहने दो.


Ishq Toh Karta Hain Har Koyi
Mehboob Pe Marta Hain Har Koyi,
Kbhi Watan Ko Mehbub Bna Kr Deko
Tujh Pe Marega Har Koyi


Deshbhakti Shayari | देश भक्ति शायरी


जब देश में थी दिवाली, वो झेल रहे थे गोली
जब हम बैठे थे घरों में, वो खेल रहे थे होली
क्या लोग थे वो अभिमानी
है धन्य वो उनकी जवानी
जय हिन्द!!


सुन्दर है जग में सबसे, नाम भी सबसे न्यारा है
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है
जहाँ जाति भाषा से बढ़कर देशप्रेम की धारा है
वो देश हमारा है, वो देश हमारा है…!!


देशभक्ति शायरी हिंदी में (Desh Bhakti Shayari Hindi Me)


Khoon Se Khelenge Holi,
Agar Watan Mushkil Mein Hain,
Sarfaroshi Ki Tamanna,
Ab Humarey Dil Mein Hain,


चढ़ गये जो हँसकर सूली, खाई जिन्होंने सीने पर गोली,
हम उनको प्रणाम करे हैं, जो मिट गये देश पर,
हम सब उनको सलाम करते हैं.


अधिकार मिलते नहीं लिए जाते हैं
आजाद हैं मगर गुलामी किये जाते हैं
वंदन करो उन सेनानियों को
जो मौत के आँचल में जिए जाते हैं…!!


खींच दो अपने सूखे जमीं पर लकीर
इस तरफ आने पाये ना रावण कोई
तोड़ दो अगर कोई हाथ उठने लगे
छू ना पाये सीता का दामन कोई
राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियो
अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो….!!


Deshbhakti Shayari | देश भक्ति शायरी


कुछ नशा तिरंगे की आन का है,
कुछ नशा मातृभूमि की मान का है,
हम लहरायेंगे हर जगह ये तिरंगा,
नशा ये हिन्दुस्तान की शान का है…!!


खूब बहती हैं अमन की गंगा बहने दो,
मत फैलाओ देश में दंगा रहने दो,
लाल हरे रंग में ना बाटो हमको,
मेरे छत पर एक तिरंगा रहने दो.


मैं भारत बरस का हरदम सम्मान करता हूँ,
यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हुँ,
मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,
तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ.


देशभक्ति शायरी हिंदी में (Desh Bhakti Shayari Hindi Me)


Tiranga Hai Aan Meri,
Tiranga Hi Hai Shaan Meri,
Tiranga Rahe Ooncha Sada Hamaara,
Tirange Se Hai Dharti Mahaan Meri!


Desh Bhakti Shayri In Hindi


Na Maro Sanam Bewafa Ke Leeye,
Do Gaz Jameen Nhi Milegi Dafan Hone K Liye,
Marna Hain Toh Maro Vatan Ke Liye,
Hasina B Duppta Utar Degi Tere Kafan Ke Liye.


ये दुनिया….एक दुल्हन
ये दुनिया….एक दुल्हन…दुल्हन के माथे पे बिंदिया
I Love My India…!!@


Independence Day Shayari,


शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मरने वालो का यही बाकि निशां होंगा.


Watan Hamara Aise Na Chhor Paaye Koi,
Rishta Hamara Aise Na Tod Paaye Koi,
Dil Hamare Ek Hai Ek Hai Hamari Jaan,
Hindustan Hamara Hai Hm Hai Iski Shaan.


Halki Si Dhup Brsat K Baad,
Thori Si Khushi Hr Baat K Baad,
Isi Tarh Mubark Ho Ap Ko,
Azadi 1 Din K Baad….


तो ये थी कुछ बेहतरीन देश भक्ति शायरी हिंदी में. यदि आपको ये अच्छी लगी है तो प्लीज इसे शेयर जरुर करें.

A Guest post by Desh Bhakti Shayari 2018

About the author

WikiHi

Leave a Comment