Hindi Shayari

हिंदी में दो लाइन शायरी

Written by WikiHi

हिंदी में दो लाइन शायरी | Two Line Shayari in Hindi

Hello Friends, आज के इस पोस्ट में आप सभी पढ़ सकेंगे हिंदी में दो लाइन शायरी और wish कर सकेंगे अपने प्रियजन को.

तो आइये पढ़ते हैं हिंदी में दो लाइन शायरी.

Two Line Shayari in Hindi on Meri Khata

वो कागज आज भी फुलो से ज्यादा महकता है दोस्तों,
जिस पर उन्होंने मजाक में लिखा था कि हमें तुमसे मोहब्बत है..

 

तू छोड़ रहा है तो ख़ता इसमें तेरी क्या,
हर शख़्स मेरा साथ निभा भी नहीं सकता..

 

दिल है उदास बहुत कोई पैगाम लिख दो,
तुम अपना नाम न सही गुमनाम ही लिख दो..

 

बस यही दो मसले, जिंदगी भर ना हल हुए,
ना नींद पूरी हुई… ना ख्वाब मुकम्मल हुए।

 

दूरियाँ जब बढ़ी तो गलतफहमियां भी बढ़ गयी।
फिर तुमने वो भी सुना जो मैंने कहा ही नही।

हिंदी में दो लाइन शायरी | Two Line Shayari in Hindi

 

जिद कर ही बैठे हो जाने की, तो ये भी सुन लो,
खैरियत मेरी.. कभी गैरों से मत पूछना..!!

 

लगती हैं जिनके दिल पर, वो आँखो से नही रोते,
जो अपनो के ही ना हो पाए, वो किसी के नही होते!!

 

Ajeeb halaat ho gayi hai dil ki,
Na tu iski hui aur na ye mera raha.

 

आखिर क्यों रिश्तों की गलियाँ इतनी तंग हैं,
शुरूआत कौन करे, यही सोच कर बात बंद है..

 

अजीब सी पहेलियाँ हैं मेरे हाथों की लकीरों में,
लिखा तो है सफ़र मगर मंज़िल का निशान नहीं।

 

दोष कांटो का कहाँ हमारा है जनाब,
पैर हमने रखा वो तो अपनी जगह पे थे।

 

पांवों के लड़खड़ाने पे तो सबकी है नज़र,
सर पे कितना बोझ है कोई देखता नहीं।

 

एक रास्ता ये भी है मंजिलों को पाने का,
सीख लो तुम भी हुनर हाँ में हाँ मिलाने का।

 

तू एक भी बार हमसे मिली नही वरना,
तेरे ही दिल को तेरे ही खिलाफ कर देते!!

 

सुनो,,,
जिंदगी में तुम ही तुम हो
आँखों में, खब्बां में,
साँसो में,
और इस दिल में,
सिर्फ तुम ही हो !

 

ये शेरो-शायरी सब उसी की मेहरबानी है,
वो कसक जो सीने से आज भी नहीं जाती।

हिंदी में दो लाइन शायरी | Two Line Shayari in Hindi

 

सिर्फ बेचैनीयाँ लिखी जाती हैं दिल की,
लफ्जों से पूरी कहा होती है कमी सनम तेरी।

 

जब तक था दम में दम न दबे आसमाँ से हम,
जब दम निकल गया तो ज़मीं ने दबा लिया।

 

मेरी रूह गुलाम हो गई है इस इश्क़ में शायद,
वरना यूँ छटपटाना मेरी आदत तो ना थी!!

 

न जाने खान चले गए, पता ही न चला,
वो लम्हे, जो छिपाकर रखे थे जीने के लिये!!

 

नींद चुराने वाले पूछते हैं सोते क्यू नही….!!!
इतनी ही फिक्र है तो फिर हमारे होते क्यू नही…❤

 

तहज़ीब में भी उसकी क्या ख़ूब अदा थी यारो,
नमक भी उसने अदा किया तो ज़ख़्मों पर छिड़क कर!!

 

मोहब्बत की रंगीनियाँ छोड़ आये,
हम तेरे शहर में एक जहाँ छोड़ आए..

 

काश तु आये अोर गले लगा कर कहे,
बस बहुत हुआ अब नही रहा जाता तेरे बिन..

 

सब कुछ हमें खबर है, नसीहत नाम दीजिए,
क्या होंगे हम खराब, ज़माना खराब है।

 

कलम के कीड़े हैं हम जब भी मचलते हैं,
खुरदुरे कागज पे रेशमी ख्वाब बुनते हैं।

हिंदी में दो लाइन शायरी | Two Line Shayari in Hindi

 

बहक न जाए आज लौ की नीयत कही..
यारो उससे कहना होंठों से यू वो दीप बुझाया न करे। 💚

 

हमें ये दिल हारने की बीमारी ना होती,
अगर आपकी दिल जीतने की अदा इतनी प्यारी ना होती। 💞

 

आईना फैला रहा है खुदफरेबी का ये मर्ज,
हर किसी से कह रहा है आप सा कोई नहीं।

 

ज़िंदा रहने की अब ये तरकीब निकाली है,
ज़िंदा होने की खबर सब से छुपा ली है।

 

हर दर्द का इलाज़ मिलता था जिस बाज़ार में,
मुहब्बत का नाम लिया तो दवाख़ाने बन्द हो गये!!

 

क्या नाम दू अपनी मोहब्बत को,
कि ये तेरे सिवा किसी और से होती नहीं!!

 

कल रात का आलम इस कदर था यारो,
उसकी यादो ने मेरी आँखो को सोने ना दिया!!

 

खूब हौसला बढ़ाया आँधियों ने धूल का,
मगर दो बूँद बारिश ने औकात बता दी।

 

तुझे लेकर मेरा ‪ख्याल‬ नहीं ‪बदलेगा,
‪साल‬ बदलेगा, मगर ‪दिल‬ का ‪हाल‬ नहीं बदलेगा!!

 

जागना कबूल हैं तेरी यादों में रात भर,
तेरे एहसासों में जो सुकून है वो नींद में अब कहाँ!!

 

नशा दौलत का हो या फिर शोहरत का, चूर कर देता हैं,
मगर नशा हो अगर मुहब्बत का तो मजबूर कर देता है!!

 

लगता है माँ बाप ने बचपन मे खलौने नही दिलाए,
तभी तो बड़ी होकर पगली हमारे दिल से ही खेल गयी!!

हिंदी में दो लाइन शायरी | Two Line Shayari in Hindi

 

बेनूर सी लगती है तुमसे बिछड़ कर ये रातें,
चिराग तो जलते है मगर उजाला नही करते!!

 

तुझे याद करना भी अब तो दिल का धड़कना सा बन गया है,
पता ही नही ज़िंदगी सांसो से चल रही है या तेरी यादो से!!

 

हुनर बताते अगर उसके ऐब को हम भी,
तो दोस्तों में हमें भी शुमार कर लेता।

 

दिल ने कहा भी था मत चाह उसे यू पागलो की तरह,
कि वो मगरूर हो जायेगा तेरी बेपनाह मुहब्बत देखकर।

 

भीगी नहीं थी मेरी आँखें कभी वक़्त के मार से,
देख तेरी थोड़ी सी बेरुखी ने इन्हें जी भर के रुला दिया।

 

किसी से प्यार करो और तजुर्बा कर लो,
ये रोग ऐसा है जिसमें दवा नहीं लगती..

 

दिल में ना हो जुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती,
खैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलती..

 

नसीब ने पूछा..बोल क्या चाहिए
ख़ुशी क्या मांग ली खामोश हो गया।🌹

 

आँखों की झील से दो कतरे क्या निकल पड़े..
मेरे सारे दुश्मन एकदम खुशी से उछल पडे।

 

माना उन तक पहुंचती नहीं तपिश हमारी,
मतलब ये तो नहीं कि, सुलगते नहीं हैं हम..

हिंदी में दो लाइन शायरी | Two Line Shayari in Hindi

 

भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी,
बड़ा बेअदब हूँ सज़ा चाहता हूँ..

 

तुम मेरी आँख के बारे में बहुत पूछते हो ना,
ये वो खिड़की है, जो दरिया की तरफ़ खुलती है..

 

हमें भी आते है अंदाज़ दिल तोड़ने के,
हर दिल में ख़ुदा बसता है यही सोचकर चुप हूँ..

 

आप हमें चाहें न चाहें इसका गिला नहीं,
हम जिसे चाहें उस पर जान लुटा देते हैं।

 

सारी उम्र तो कोई जीने की वजह नहीं पूछता,
लेकिन मौत वाले दिन सब पूछते है कि कैसे मरे।

 

भीगी नहीं थी मेरी आँखें कभी वक़्त के मार से..
देख तेरी थोड़ी सी बेरुखी ने इन्हें जी भर के रुला दिया।

 

क्या बताये अपनी चाहतों का आलम,
वो पल ही याद नहीं.. जिस पल तुझे हम भूले हों।

 

तुम से सदियों की वफाओं का कोई नाता न था,
तुम से मिलने की लकीरें थीं मेरे हाथों मे। 🌹

 

मुझमें हजार ख़ामियां है माफ किजिए,
पर अपने आइने को भी तो कभी साफ किजिए।

 

तुमको जब बोझ लगे मेरा साथ तो बता देना,
मैं चुपके से तेरी मोहब्बत से मुकर जाऊँगा।

 

सारी उम्र तो कोई जीने की वजह नहीं पूछता,
लेकिन मौत वाले दिन सब पूछते है कि कैसे मरे।

 

नाराज़ ना होना कभी बस यही एक गुज़ारिश है
महकी हुई इन साँसों की साँसों से सिफ़ारिश है।

 

निकल आते हैं आँसू गर जरा सी चूक हो जाये,
किसी की आँख में काजल लगाना खेल थोड़े ही है।

 

मिले जो मुफ्त में उस चीज की कीमत नहीं होती,
हुई है कद्र हर इक साँस की जब वक़्त आया है।

 

एक ताबीज़ मेरे प्यार को भी चाहिए,
थोड़ा सा दिखा नहीं कि नज़र लगने लगती हैं!!

खुद को समेट के, खुद में सिमट जाते हैं हम,
जब याद तेरी आती है, फिर से बिखर जाते है हम!!

 

तू इस कदर इंसान को बेबस ना बना आए खुदा,
की तेरा बंदा तुझसे पहले किसी ओर के आगे झुक जाए!!

 

तू इश्क़ की दूसरी निशानी दे दे मुझको,
आँसू तो रोज़ गिर के सुख जाते हैं!!

 

तुम साथ हो तो दुनियां अपनी सी लगती है,
वरना सीने मे सांसे भी पराई सी लगती है।

 

न जाने रूठ के बैठा है दिल का चैन कहाँ,
मिले तो उस को हमारा कोई सलाम कहे।

 

जिद में आकर उनसे ताल्लुक तोड़ लिया हमने,
अब सुकून उनको नहीं और बेकरार हम भी हैं।

 

मुझे भी पता है कि तुम मेरी नहीं हो,
इस बात का बार बार एहसास मत दिलाया करों..

 

होठों पे मुस्कान थी कंधो पे बस्ता था,
सुकून के मामले में वो जमाना सस्ता था।

 

तरस आता है मुझे अपनी मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है की अब रोया नहीं जाता।

 

अपनी रातें उनके लिए ख़राब करना छोड़ दो दोस्तों,
जिनको ये भी परवाह नहीं की तुम सुबह उठोगे भी या नहीं।

 

किसी टूटे हुए मकान की तरह हो गया है ये दिल,
कोई रहता भी नहीं और कमबख्त बिकता भी नहीं।

 

तारे और इंसान में कोई फर्क नहीं होता,
दोनो ही किसी की ख़ुशी के लिऐ खुद को तोड़ लेते हैं।

 

दो मुलाकात क्या हुई हमारी तुम्हारी,
निगरानी में सारा शहर लग गया।

 

बडी लम्बी खामोशी से गुजरा हूँ मै,
किसी से कुछ कहने की कोशिश मे।

 

उड़ जायेंगे तस्वीरों से रंगो की तरह हम,
वक़्त की टहनी पर हैं परिंदो की तरह हम।

 

टूटे हुए दिल भी धड़कते है उम्र भर,
चाहे किसी की याद में या फिर किसी फ़रियाद में।

 

तरस आता है मुझे अपनी मासूम सी पलकों पर,
जब भीग कर कहती है की अब रोया नहीं जाता।

 

कुछ यूँ उतर गए हो मेरी रग-रग में तुम,
कि खुद से पहले एहसास तुम्हारा होता है।

 

हर पल में प्यार है हर लम्हे में ख़ुशी है,
खो दो तो याद है जी लो तो ज़िन्दगी है।

 

बहुत दूर है तुम्हारे घर से हमारे घर का किनारा,
पर हम हवा के हर झोंके से पूछ लेते हैं क्या हाल है तुम्हारा।

 

स्याही भरी कलम से, कागज़ में था ग़म,
बयां हाल उनने पढ़ा, आँखे हो गई नम..

 

 

About the author

WikiHi

Leave a Comment